सीने में हो रहे दर्द को दूर करने के 5 प्राकृतिक उपचार

आज के युग में सीने में दर्द होना एक भयावह समस्या बन चुका है | इसकी वजह से लोग इतना घबरा जाते हैं कि क्या करे क्या ना करें, ठीक प्रकार से नहीं सोच पाते | लोगों को ऐसा लगने लगता है कि उन्हें दिल से सम्बंधित कोई बीमारी हो गई है | अगर आपके भी कभी सीने में दर्द उठे तो इसका मतलब केवल यह ही नहीं है कि आपको दिल का दौरा पड़ने वाला है बल्कि यह आपको सूचित करता है कि अब आपको अपने आहार-सम्बन्धी आदतों में बदलाव देना शुरू कर देना चाहिए | अगर कभी भी आपको छाती में दर्द होना शुरू हो तो सर्वप्रथम अपने नजदीकी डॉक्टर को जरूर दिखाए |

क्यों होती है सीने में दर्द की समस्या ?

अगर आप ज्यादा वसायुक्त, तेज मसालेदार अथवा कम पोषण वाला भोजन का सेवन कुछ अधिक मात्रा में करते हैं तो यह सीने में दर्द उठने की एक महतवपूर्ण वजह हो सकता है | इसके अलावा एसिडिटी, सर्दी, कब्ज, तनाव, बदहजमी, धुम्रपान आदि भी इस दर्द की वजह हो सकते हैं | यदि आप चाहते हैं कि आपको इस समस्या का सामना ना करना पड़े तो निचे दिए गए कुछ ख़ास सामग्रियों का सेवन करना प्रारम्भ कर दीजिये |

  1. लहसून :- लहसून में कई प्रकार के औषधीय गुण होते हैं इसी वजह से इसे वंडर मेडिसिन के नाम से भी जाना जाता है | बस आप प्रतिदिन खाली पेट लहसून की एक या दो कली को खाना शुरू कर दीजिये | अगर आपकी छाती में दर्द गैस या अन्य छोटे मोटे कारणों से हो रहा है तो इससे दर्द में लाभ मिलेगा | साथ ही साथ लहसून के सेवन से आपका कोलेस्ट्रॉल स्तर कम होता है एवं दिल की धमनी की दिवार पर वसा (फैट) की परत बनने से भी रुकेगा जिसके फलस्वरूप आपके दिल में ऑक्सीजन और खून का प्रवाह सही बना रहेगा |
  2. हल्दी :- हल्दी में भी बहुत अधिक मात्रा में आयुर्वेदिक गुण होते हैं जो हमारे शरीर में कई तरह की बिमारियों को दूर करने के लिए लाभकारी सिद्ध होते हैं | अगर आपको दिल से समन्धित कोई परेशानी होती है या सीने में दर्द होता है तो आज से ही इसका उपयोग भोजन में मसाले के रूप में इस्तेमाल के साथ साथ इसे दूध में भी डालकर पीना शुरू कर दीजिये | इससे आपको दर्द से राहत मिलेगी |
  3. अदरक :- अगर आपको एसिडिटी अथवा गैस की वजह से छाती में दर्द अथवा जलन हो रही है तो अदरक वाली चाय का सेवन कीजिये | अदरक में मौजूद औषधीय तत्व सीने में दर्द के साथ साथ खांसी, जुकाम तथा अन्य कई रोगों को ठीक करने में भी सहायता करते हैं |
  4. तुलसी :- सीने में दर्द होने पर तुलसी-अदरक का काढ़ा बनाकर उसमे स्वादानुसार शहद मिलाकर सेवन कीजिये, इससे आपको दर्द से बहुत राहत मिलेगा | तुलसी में केवल एंटी-बैक्टीरियल ही नहीं अपितु एंटी-इंफ्लेमेटरी तत्व भी मौजूद होते हैं जो हमारे हृदय के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं |
  5. मुलेठी :- मुलेठी एक तरह की बूटी होती है जो साधारणतया गले में खराश होने पर चुसी जाती है | इसको चूसने से जो रस निकलता है वो न केवल हमारी पाचनक्रिया समन्धित परेशानियों को दूर करता है बल्कि हमारे सीने में हो रहे दर्द को भी राहत देता है | इस बूटी का प्रयोग कई तरह की आयुर्वेदिक दवा को बनाने में भी किया जाता है |

अगर आपको हमारा ये लेख अच्छा लगा हो तो इसे अपनी सोशल प्रोफाइल्स पर जरूर शेयर करे ताकि अन्य लोग भी इस लेख को पढ़ कर फायदा उठा सकें |

Seene Mein Ho Rahe Dard (Chest Pain) Ko Door Karne Ke Prakratik Upchaar

Aaj ke yug mein seene mein dard hona ek bhayavah samasya ban chuka hai. Iski vajah se log itna ghabra jaate hain ki kya kare kya naa karein, theek prakaar se nahi soch paate. Logo ko aisa lagne lagta hai ki unhe dil se samandhit koi bimari ho gayi hai. Agar aapke bhi kabhi seene mein dard uthe to iska matlab keval yeh nahi hai ki aapko dil ka daura padhne wala hai balki yeh aapko suchit karta hai ki ab aapko apne aahar-samandhi aadto mein badlaav dena shuru kar dena chahiye. Agar kabhi bhi aapko chhati mein dard hona shuru ho to sarvpratham apne najdiki doctor ko jaroor dikhaaye.

Kyon hoti hai seene mein dard ki samasya?

Agar aap jyada vasayukt, tej masaledar athva kam poshan wala bhojan ka sewan kuchh adhik matra mein karte hain to yeh chest pain ki ek mehtavpurn vajah ho sakta hai. Iske alawa, acidity, sardi, kabj, tanaav, badhajmi, dhumrapaan aadi bhi is pain ki vajah ho sakte hain. Yadi aap chahte hain ki aapko is samasya ka saamna naa karna pade to niche diye gaye kuchh khaas samagriyon ka sewan karna praarambh kar dijiye.

Lehsoon :- Lehsoon mein kai prakaar ke aushdheeye gun hote hain isi vajah se ise wonder medicine ke naam se bhi jaana jaata hai. Bus aap pratidin khaali pet lehsoon ke ek ya do kali ko khaana shuru kar dijiye. Isse aapki chhati mein dard agar gas ya anya chhote-mote kaarno se ho raha hai to usme laabh milega. Sath hi sath lehsoon ke sewan se aapka cholesterol level kam hota hai evm dil ki dhamni ki deewar par vasa (fat) ki parat banne se bhi rukega jiske falswarup aapke dil mein oxygen aur khoon ka pravaah sahi bana rahega.

Haldi :- Haldi mein bhi bahut adhik matra mein ayurvedic gun hote hain jo hamare shareer mein kai tarah ki bimariyon ko door karne ke liye laabhkaari siddh hote hain. Agar aapko dil samandhi koi pareshani hai ya seene mein dard hota hai to aaj se hi iska upyog apne bhojan mein masaale ke roop mein istemaal ke saath sath ise doodh mein bhi daalkar peena shuru kar dijiye,. Isse aapko dard se raahat milegi.

Adrak :- Agar aapko acidity athva gas ki vajah se chest pain ho raha hai to adrak wali chai ka sewan kijiye. Adrak mein maujud aushdheeye tatv seene mein dard ke saath-saath khaansi, jukaam tatha anya kai rogo ko theek karne mein bhi sahayta karte hain.

Tulsi :- Seene mein dard hone par tulsi-adrak ka kaadhaa banakar usme swadanusar shehad milaakar sewan kijiye, isse aapko dard se bahut raahat milega. Tulsi mein keval anti-bacterial hi nahi apitu anti-inflammatory tatv bhi maujud hote hain jo hamare hridya ke liye bahut hi faydemand hote hain.

Mulethi :- Mulethi ek tarah ki booti hoti hai jo sadharantaya gale mein kharaash hone par choosi jaati hai. Isko choosne se jo ras nikalta hai wo na keval hamari pachankriya sambandhit pareshaniyo ko door karta hai balki hamare seene mein ho rahe dard ko bhi raahat deta hai. Is booti ka prayog kai tarah ki ayurvedic dava ko banane mein bhi kiya jaata hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)