रोगों से दूर रहने के लिए जरूरी नियम

अपने खान-पान की आदतों में थोड़ा बदलाव लाने पर हम अपने स्वास्थय को बेहतर बन सकते हैं साथ ही साथ पेट से होने वाली कई बिमारियों से भी बच सकते हैं | ऐसा तभी हो सकता है जब हम निम्नलिखित नियमों का पालन करें | ये नियम हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं जिससे रोगों से बचाव होता है :-

जल (पानी) पीने के सही तरीके :-

drinking water

  • प्रातःकाल उठते ही बिना कुल्ला किये एवं ब्रश करने से पहले बासे मुँह कम से कम 2 गिलास गुनगुना जल जरूर पीयें |
  • पानी को सदा घूँट-घूँट कर बैठकर ही पीयें |
  • खाना खाते वक़्त अगर कभी प्यास लगे तो कभी भी एक घूँट से ज्यादा जल कभी भी ना पीयें, खाना खाने के बाद कम से कम डेढ़ घंटे बाद ही जल पीयें और अवश्य पीयें |
  • जल को हमेशा गुनगुना करके ही पीयें अथवा सादा पानी पीयें, कभी भी फ्रिज का अथवा ठंडा बर्फ वाला पानी ना पीयें |

खाना खाने के सही एवं घरेलु तरीके :-

indian-food

  • सूर्य उगने के बाद 2 घंटो के अन्दर सुबह का नाश्ता कर लें |
  • सूर्य ढलने के एक घंटे पहले तक शाम का भोजन कर लें |
  • कभी भी अगर दोपहर के समय भूख लगे तो 12 बजे से 2 बजे के बीच के समय अल्पाहार ले लें जैसे मूंग की दाल की खिचड़ी, सलाद, फल एवं छाछ इत्यादि |
  • प्रातःकाल नाश्ते में फल व दही तथा दोपहर के भोजन में छाछ तथा सूर्य ढलने के पश्चात् दूध का सेवन बेहद लाभकारी होता है |
  • भोजन को अच्छे से चबाकर ही खाएं तथा दिन में कभी भी 3 से ज्यादा बार कभी भी भोजन ना करें |

अन्य घरेलु उपाय :-

  • हांडी अथवा मिट्टी के बर्तनों में बना हुआ भोजन शरीर के लिए सबसे उत्तम है |
  • खाना पकाने में सिर्फ मूंगफली, तिल, सरसों या केवल नारियल के घानी वाला तेल ही इस्तेमाल करें |
  • चीनी अथवा शक्कर का कदापि भी उपयोग ना करें, इनकी जगह धागे वाली मिश्री (खड़ी शक्कर) अथवा गुड़ का ही प्रयोग करें
  • खाना बनाते समय कभी भी सफ़ेद नमक का इस्तेमाल ना करें, इसकी जगह सेंधा अथवा ढेले वाले नमक को ही इस्तेमाल करें |
  • कभी भी मैदे से बनी वस्तुएं ना खाए, यह शरीर को नुक्सान देता है |

हम आपके स्वास्थ्य की मंगलकामना करते हुए ये आशा करते हैं कि आप इन दिए गए नियमों को अपनाकर अपने स्वास्थ्य को चार चाँद लगा सकेंगे |

Rogon se door rehne ke liye jaroori niyam

Apne khaan-paan ki aadton mein thoda badlaav laane par hum apne swasthya ko behtar banaa sakte hain sath hi sath pet sambandhi kai bimariyon se bhi bach sakte hain. Aisa tabhi ho sakta hai jab hum nimnlikhit niymo ka paalan karein. Ye niyam hamare shareer ki pratirodhak kshamta ko badhaate hain jisse rogon se bachaav hota hai :-

Jal (Paani) peene ke sahi tareeke :-

  • Pratah kaal uthate hi bina kulla kiye evm brush karne se pehle baase munu kam se kam 2 glass gunguna jal jaroor piye.
  • Paani ko sada ghoont-ghoont kar baithkar hi peeyein.
  • Khaana khate waqt agar kabhi pyas lage to kabhi bhi ek ghoont se jyada jal naa peeyein, khaana khaane ke baad kam se kam dedh ghante baad hi jal peeye aur avashya peeyein.
  • Jal ko hamesha gunguna karke hi peeyein athva saada paani peeyein, kabhi bhi fridge ka athva thanda baraf wala paani naa peeyein.

Khaana khaane ke sahi evm gharelu tareeke :-

  • Surya ugne ke baad 2 ghanto ke andar subah ka naashta kar lein.
  • Surya dhalne ke ek ghante tak shaam ka bhojan kar le.
  • Kabhi bhi agar dopahar mein bhookh lage to 12 baje se 2 baje ke beech alpaahar le lein jaise moong ki daal ki khichdi, salad, fal evm chhachh ityaadi.
  • Pratah kaal naashte mein fal va dahi tatha dopahar ke bhojan mein chhachh tatha surya dhalne ke pashchaat doodh ka sewan behad laabhkaari hota hai.
  • Bhojan ko achchhe se chabaakar hi khaaye tatha din mein kabhi bhi 3 se jyada baar kabhi bhi bhojan naa karein.

Anya gharelu upaay :-

  • Haandi athva mitti ke bartano mein bana hua bhojan shareer ke liye sabse uttam hai.
  • Khana pakaane mein sirf moongfuli, til, sarso ya keval nariyal ke ghani wala tel hi istemal karein.
  • Chini athva shakkar ka kadaapi bhi upyog naa karein, inki jagah dhaage wali mishri (khadi shakkar) athva gud ka hi prayog karein.
  • Khana banate samay kabhi bhi safed namak ka istemal naa karein, iski jagah sendha athva dhele wale namak ko hi istemal karein.
  • Kabhi bhi maide se bani huyi vastuye naa khaayein, yeh shareer ko nuksaan pahuchata hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)