निम्न रक्तचाप (लो ब्लड प्रेशर) : – लक्षण एवं उपचार

निम्न रक्तचाप, जिसे अंग्रेजी में लो ब्लड प्रेशर भी कहते हैं, आज एक आसानी से होने वाली बीमारी के रूप में उभर कर सामने आ चुका है | अगर सही समय पर सही कदम न उठाये जाए तो यह रोग एक जटिल रूप धारण कर लेता है | इसी को ध्यान में रखते हुए हैल्थप्राश लेकर आया है इस बीमारी के लक्षण एवं उपचार का ये लेख जिसे अपनाकर आप समय रहते बचाव कर सकते हैं |

तुरंत उपचार :-

  • नमक का पानी पीयें |
  • निम्बू पानी का सेवन करें |
  • कॉफ़ी पीयें |

लो ब्लड प्रेशर क्या है?

जब शरीर में जब रक्तचाप कम होकर 90/60 या इससे भी कम हो जाता है तो इस स्तिथि को निम्न रक्तचाप अर्थात Low Blood Pressure कहते हैं | पहले यह रोग 40 से 50 वर्ष की उम्र के व्यक्तियों को होने की संभावना होती थी लेकिन आज के इस तनावपूर्ण और भागदौड़ भरी ज़िन्दगी में यह रोग 20 से 30 वर्ष के युवकों एवं युवतियों को भी होने लगा है | विशेषज्ञों के अनुसार हाई ब्लड प्रेशर की बजाय लो ब्लड प्रेशर के रोगियों को अधिक नुक्सान होने की संभावना रहती है | लो ब्लड प्रेशर होने पर रक्त का प्रभाव कम हो जाता है जिसकी वजह से रक्त शरीर के आवश्यक अंगो तक पूरी तरह से नहीं पहुँच पाता है |

लो ब्लड प्रेशर रोग के लक्षण:-

  • चक्कर आना
  • दिल का तेजी से धड़कना
  • आँखों के आगे अँधेरा छा जाना या धुंधला दिखाई देना
  • मन मचलना
  • हाथ-पैर ठंडा पड़ना
  • बेहोशी आना
  • कमजोरी
  • सीने में दर्द
  • सिर दर्द
  • भूख में कमी
  • बार-बार प्यास लगना

निम्न रक्तचाप के कारण:-

  • शरीर में रक्त कोशिकाओं का चौड़ा होना
  • दिल की बीमारी
  • शरीर में पानी या खून की कमी
  • कुपोषण
  • ज्यादा पसीना आना
  • मधुमेह (डायबिटीज)
  • लीवर का कोई रोग
  • गरम वातावरण में अधिक समय बिताना

रोगी को क्या खाना या पीना चाहिए?

  • खून की कमी के कारण लो ब्लड प्रेशर होने पर ताजे फल एवं सब्जियों और पौष्टिक पदार्थो का ज्यादा से ज्यादा मात्रा में सेवन करें |
  • रोजाना भोजन के साथ गाजर, खीरा एवं ककड़ी का सलाद बनाकर सेवन करें |
  • आंवले एवं गाजर के मुरब्बे का अधिक मात्रा में सेवन करें |
  • रोजाना खजूर का सेवन करने से खून की कमी दूर होती है जिससे निम्न रक्तचाप की समस्या समाप्त होता है |
  • एक गिलास दूध में 2-3 छुहारे उबालकर पीने से लो ब्लड प्रेशर से छुटकारा मिलता है |
  • जितना अधिक हो सके निम्बू-पानी अथवा नमक के पानी का सेवन करें |

रोगी को क्या नहीं खाना चाहिए?

  • अधिक घी या तेल से बने पदार्थ |
  • तेज मिर्च-मसाले वाला भोजन |
अन्य घरेलु उपाय :-

उपाय 1

एक गिलास पानी में 10 तुलसी के पत्ते, 4 काली मिर्च एवं 2 लौंग डालकर उबाल लें | जब पानी आधा रह जाए तो इसे छान कर रख लें | इस पानी को प्रतिदिन दिन में 1 बार पीने से लो ब्लड प्रेशर शीघ्र ठीक हो जाता है |

उपाय 2 :-

1 चम्मच शहद में एक चौथाई छोटा चम्मच लहसुन का रस मिलाकर इसका रोजाना 3 बार सेवन कीजिये | इससे लो ब्लड प्रेशर धीमे-धीमे ठीक हो जाता है |

Nimn Raktchaap (Low Blood Pressure) :- Lakshan evm Upchaar

Nimn raktchaap, jise english mein low blood pressure bhi kehte hain, aaj ek aasani se hone wali bimari ke roop mein ubhar kar saamne aa chuka hai. Agar sahi samay par sahi kadan naa uthaya jaaye to yeh rog ek jatil roop dhaaran kar leta hai. Isi ko dhyaan mein rakhte huye HealthPrash lekar aaya hai is bimaari ke lakshan evm upchaar ka yeh lekh jise apnakar aap samay rehte apna bachaav kar sakte hain.

You might like to read :-

Turant Upchaar :-

  • Namak ka paani peeyein.
  • Neembu pani ka sewan karein.
  • Coffee peeyein.

Low Blood Pressure Kya Hai?

Jab shareer ka raktchaap kam hokar 90/60 ya isse bhi kam ho jaata hai it is stithi ko nimn raktchaap arthaat Low Blood Pressure kehte hain. Pehle yeh rog 40 se 50 varsh ki umar ke vyaktiyon ko hone ki sambhaavna hoti thi lekin aaj ke is tanavpurn aur bhagdaud bhari zindagi mein yeh rog 20 se 30 varsh ke yuvko evm yuvtiyon ko bhi hone laga hai. Visheshagyon ke anusaar High Blood Pressure ki bajay Low Blood Pressure ke rogiyon ko adhik nuksaan hone ki sambhaavna rehti hai. Low Blood Pressure hone par rakt ka prabhaav kam ho jaata hai jiski vajah se rakt shareer ke aavshyak ango tak puri tarah se nahi pahuch paata hai.

Low Blood Pressure Rog Ke Lakshan :-

  • Chakkar aana
  • Dil ka teji se dhadakna
  • Aankhon ke aage andhera chhaa jaana ya dhundhla dikhayi dena
  • Mann machalna
  • Haath-pair thanda padna
  • Behoshi aana
  • Kamjori
  • Seene mein dard
  • Sir dard
  • Bhookh mein kami
  • Baar-baar pyas lagna

Nimn Raktchaap ke kaaran :-

  • Shareer mein rakt koshikaon ka chauda hona
  • Dil ki bimari
  • Shareer mein paani ya khoon ki kami
  • Kuposhan
  • Jyada paseena aana
  • Madhumeh (Diabetes)
  • Level ka koi rog
  • Garam vataaran mein adhik samay bitaana

Rogi ko kya khana-peena chahiye?

  • Khoon ki kami ke kaaran low blood presshure hone par taaje fal evm sabjiyon aur poshtik padarthon ka jyaada se jyada matra mein sewan karein.
  • Rojana bhojan ke sath gajar, kheera evm kakdi ka salad banaakar sewan karein.
  • Aanvle evm gaajar ke murabbe ka adhik maatra mein sewan karein.
  • Rojana khajoor ka sewan karne se khoon ki kami door hoti hai jisse nimn raktchaap ki samasya samaapt hoti hai.
  • Ek glass doodh mein 2-3 chhuhaare ubaalkar peene se nimn raktchaap se chhutkara milta hai.
  • Jitna adhik ho sake neembu-paani athva namak ke paani ka sewan karein.

Rogi ko kya nahi khana chahiye?

  • Adhik ghee ya tel se bane padaarth.
  • Tej mirch-masaale wala bhojan

Anya gharelu upaay :-

Upay 1 :– Ek glass paani mein 10 tulsi ke patte, 4 kaali mirch evm 2 laung daalkar ubaal lein. Jab paani aadha reh jaaye to ise chhaankar rakh le. Is paani ko pratidin din mein 1 baar peene se low blood pressure sheegra theek ho jaata hai.

Upay 2 :- 1 chammach shehad mein ek chauthai chhota chammach lehsoon ka ras milaakar iska rojana 3 baar sewan kijiye. Isse nimn raktchaap dheeme-dheeme theek ho jaata hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)