जीरा और गुड़ का पानी पीने से होने वाले स्वास्थ्य लाभ

आज के इस व्यस्त जीवनशैली में व्यक्ति चिकित्सको एवं आधुनिक दवाओं पर इस कदर आश्रित हो चुका है कि वह अपने छोटे से छोटे रोगों के इलाज के लिए हर बार किसी चिकित्सक के पास दवाई लेने पंहुच जाता है | इससे ना सिर्फ वो अपना कीमती समय बल्कि पैसा भी बर्बाद करता है | हम समझ सकते हैं कि आप कैसा अनुभव करते होंगे जब आपका इतनी कड़ी मेहनत से कमाए हुए पैसों का एक बड़ा भाग बिमारियों पर खर्च होता होगा | चलिए आज हम आपको बताते हैं आपकी रसोईघर में पाये जाने वाले कुछ ऐसे तत्वों के बारे में जिनके सही इस्तेमाल से आप कई प्रकार की बिमारियों से बचकर अपना समय और रुपया दोनों बचा सकते हैं | वो पदार्थ है जीरा, जी हाँ ये वही जीरा है जिसका प्रयोग आप अपने भोजन को पकाने में नियमित रूप से करते हैं | इसके अलावा एक और पदार्थ है जिसे हम गुड़ कहते हैं | क्या आप जानते हैं कि इन दोनों पदार्थो को मिलकर बनाया गया पानी कई प्रकार के औषधीय गुणों से भरपूर होता है जो हमारे स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभकारी होते हैं |

कैसे बनाये गुड़ और जीरे का पानी ?

  • पानी के एक बर्तन में एक चम्मच गुड़ और एक चम्मच जीरा मिला लीजिये
  • अब इसमें नमक, नींबू एवं काली मिर्च डालकर कुछ देर तक उबालें |
  • लीजिये हो गया तैयार स्वास्थ्य से भरपूर पानी |
  • इस मिश्रण का एक कप सेवन रोजाना सुबह नाश्ता करने से पहले करें |

तो आइये जानते हैं इस पानी के सेवन से होने वाले फायदे

  1. जीरा एवं गुड़, इन दोनों पदार्थो में पोषक तत्व एवं खनिज भरपूर मात्रा में पाये जाते हैं जो हमारे शरीर की लाल रक्त कोशिकाओं को स्वस्थ रखने के लिए बेहद जरूरी होते हैं जिससे शरीर में खून की कमी से होने वाले रोग अनीमिया से बचाव होता है |
  2. जीरा एवं गुड़ के पानी का सेवन एसिड के प्रभाव को बेकार कर देता है जिससे पेट में असमय होने वाली एसिडिटी की समस्या दूर होती है | इसके साथ ही यह पेट फूलने की परेशानी से भी राहत दिलाता है |
  3. यह पानी शरीर के तापमान को नियंत्रित रखने में बेहद लाभकारी है तथा शरीर के अतिरिक्त तापमान को कम करता है | इससे आपको बुखार, सिर में दर्द एवं जलन इत्यादि में आराम मिलता है |
  4. इस पानी का सेवन स्त्रियों के शरीर में हार्मोन्स के असंतुलन को ठीक करता है जिससे महिलाओं को होने वाले मासिक धर्म सम्बंधित परेशानिया समाप्त होती हैं और इस अवधि के दौरान होने वाले दर्द से भी आराम दिलवाता है |
  5. जीरे एवं गुड़ के मिश्रण का यह पानी कब्ज की परेशानी से राहत दिलाता है एवं मल त्याग सम्बंधित प्रक्रिया में सुधार लाता है |
  6. जीरे एवं गुड़ के पानी का सेवन हमारे शरीर से विषैले तत्व बाहर निकालता है जिससे हमारे शरीर के प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूती मिलती है |

तो यह थे जीरे-गुड़ के पानी को पीने से होने वाले फायदे | अगर आपको हमारा यह लेख पसंद आया हो तो इसे अपनी सोशल प्रोफाइल्स पर लोगो के साथ शेयर करने ना भूलें |

Jeera Aur Gud Ka Pani Peene Se Hone Wale Swasthya Laabh

Aaj ke is vyast jeevanshaily mein vyakti chikitsakon evm aadhunik dawayon par is kadar aashrit ho chuka hai ki vah apne chhote se chhote rogo ke ilaaj ke liye har baar kisi chikitsak ke paas dawai lene pahuch jaata hai. Isse naa sirf wo apna keemti samay balki paisa bhi barbaad karta hai. Hum samajh sakte hain ki aap kaisa anubhav karte honge jab aapka itni kadi mehnat se kamaye huye paisa ka ek bada bhaag bimariyon par kharch hota hoga. Chaliye aaj hum aapko bataate hain aapki rasoighar mein paaye jaane wale kuchh aise tatvon ke baare mein jinke sahi istemaal se aap kai prakaar ki bimariyon se bachkar apna samay evm rupya dono bacha sakte hain. Wo padarth hai jeera, ji haan ye vahi jeera hai jiska prayog aap apne bhojan ko pakaaane mein niymit roop se karte hain. Iske alawa ek aur padarth hai jise hum gud kehte hain. Kya aap jaante hain ki in dono padartho ko milaakar banaya gaya paani kai prakaar ke aushdheeye gun se bharpoor hota hai jo hamare swasthya ke liye behad laabhkaari hote hain.

Kaise banaye gud aur jeere ka paani?

  • Paani ke ek bartan mein ek chammach gud aur ek chammach jeera mila lijiye.
  • Ab isme namak, neembu evm kaali mirch daalkar kuchh der tak ubaalein.
  • Lijiye ho gaya taiyaar swasthya se bharpoor paani.
  • Is mishran ka ek cup sewan rojana subah naashta karne se pehle karein.

To aaiye jaante hain is paani ke sewan se hone wale fayde

  1. Jeera evm gud, in dono padartho mein poshak tatv evk khaneej bharpoor matra mein paye jaate hain jo hamare shareer ki lal rakt koshikaon ko swasth rakhne ke liye behad jaroori hote hain jisse shareer mein khoon ki kami se hone wale rog anemia se bachaav hota hai.
  2. Jeera evm gud ke paani ka sewan acid ke prabhav ko bekaar kar deta hai jisse pet mein asamay hone wali acidity ki samasya door hoti hai. Iske saath hi yeh pet foolne ki pareshaani se bhi raahat dilata hai.
  3. Yeh paani shareer ke taapmaan ko niyantrit rakhne mein behad laabhkaari hai tatha shareer ke atirikt taapmaan ko kam karta hai. Isse aapko bukhaar, sir mein dard evm jalan ityaadi mein aaram milta hai.
  4. Is paani ka sewan striyon mein hormons ke asantulan ko theek karta hai jisse mahilaon ko hone wale maasik dharm sambandhit pareshaniya samapt hoti hain aur is avadhi ke dauran hone wale dard se bhi aaram dilwata hai.
  5. Jeere evm gud ke mishran ka yeh paani kabj ki pareshani se raahat dilata hai evm mal tyag sambandhit prakriya mein sudhaar laata hai.
  6. Jeere evm gud ke paani ka sewan hamare shareer se vishaile tatv baahar nikaalta hai jisse hamare shareer ke pratiraksha tantra ko majbooti milti hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)