जानिए लौंग के औषधीये गुण जो दिलाएंगे कई प्रकार की परेशानियों से राहत

भारत में लौंग का प्रयोग सैंकड़ो वर्षों से मसाले और औषधी के रूप में किया जा रहा है | इसे एक प्राकृतिक दर्द निवारक के रूप में भी जाना जाता है | आज हम आपको बताएँगे इससे होने वाले कुछ ख़ास लाभों के बारे में जिन्हें जानने के बाद आप भी कई प्रकार के रोगों से आसानी से छुटकारा पा सकते हैं |

लौंग के कुछ घरेलु नुस्खे जो आपके स्वास्थ्य के लिए हैं बेहतरीन :-

  1. सिर दर्द से राहत दिलाये :- अगर आपके सिर में दर्द है तो लौंग के तेल की थोड़ी बूंदों को नारियल के तेल में मिलाकर सिर में मालिश करें | इससे सिर दर्द से राहत मिलती है |
  2. पाचनशक्ति को मजबूत करे :- भोजन में नियमित दो लौंग खाने से हमारे शरीर की पाचनक्रिया मजबूत होती है तथा पाचन सम्बन्धी समस्याओं से आजादी मिलती है |
  3. दांत दर्द से छुटकारा दिलाये :- दांत दर्द होने पर लौंग का तेल दर्द वाले स्थान पर लगा कर कुछ देर लगा रहने दे और फिर थूक दें | इससे दांत दर्द से छुटकारा मिलता है |
  4. गठिया में होने वाली परेशानी से आराम दिलाये :- गठिया का रोग होने पर जोड़ों में होने वाले दर्द एवं सूजन से राहत दिलाने के लिए लौंग बेहद लाभकारी होती है | इसमें अधिक मात्रा में पाया जाने वाला फ्लेवोनॉयड्स गठिया के दर्द से राहत दिलाने में ख़ास भूमिका निभाता है |
  5. एक अच्छा एंटीसेप्टिक : – लौंग एवं इसके तेल में एंटीसेप्टिक गुण भरपूर मात्रा में उपलब्ध होते हैं जिनकी वजह से कटने, जलने चोट लगने अथवा घाव होने पर या किसी संक्रमण होने पर इसका उपयोग उपचार करने के लिए किया जाता है |
  6. जुखाम एवं बुखार को ठीक करने में उपयोगी :- जुकाम अथवा बुखार होने पर 1 लीटर पानी में 9 से 10 लौंग उबाल कर गुनगुना कर पीने से लाभ मिलता है |
  7. पेट में होने वाले कीड़ों से छुटकारा दिलाये :- पेट में कीड़े होने पर 3-4 लौंग को पीसकर 1 चम्मच शहद के साथ सेवन करें | ऐसा कुछ दिनों तक नियमित करे | इससे पेट के कीड़ों से छुटकारा मिलता है |
  8. खांसी को दूर भगाए :- लौंग का नियमित इस्तेमाल खांसी से छुटकारा दिलाता है साथ ही साथ श्वास से आने वाली बदबू को भी दूर भगाता है | इसे आप सौंफ के साथ या ऐसे ही खा सकते हैं |
  9. त्वचा सम्बन्धी परेशानियों को दूर करे :- त्वचा सम्बन्धी होने वाली समस्याओं जैसे मुहांसे, ब्लैक हेड्स अथवा व्हाईट हेड्स को दूर करने के लिए लौंग का तेल एक बेहतर विकल्प है | ध्यान रखें इसे केवल फेस पैक में मिलाकर ही प्रयोग में लायें क्योंकि यह बहुत गरम होता है जिसकी वजह से इसे सीधे त्वचा पर लगाना नुकसानदायक हो सकता है |
  10. मुंह के छालों से राहत :- 2-3 लौंग को हल्का गरम करके अपने मुंह में रखने पर मुंह के छालों से आराम मिलता है |
  11. श्वास सम्बन्धी रोगों में लाभकारी :- पानी में 5 – 6 लौंग उबाल लें अब इसे शहद में मिलाकर काढ़ा बना लें | इस काढ़े का नियमित प्रयोग श्वास सम्बन्धी कई प्रकार की दिक्कतों से आराम मिलता है |
  12. गर्दन के दर्द से राहत दिलाये :- थोड़ी सी लौंग को पीसकर सरसों के तेल में मिलाकर नर्म हाथो से मालिश करें | इस विधि को प्रयोग करने से गर्दन दर्द से छुटकारा मिलता है |

लौंग के सेवन से होने वाले कुछ अन्य लाभ :-

लौंग का सेवन शरीर की प्रतिरोधक शक्ति को बढ़ाता है | यह खून को साफ़ करता है तथा इसका उपयोग मलेरिया एवं हैजा जैसी बिमारियों को ठीक करने वाली दवाओं में किया जाता है |

Jaaniye Laung Ke Aushadheeye Gun Jo Dilayenge Kai Prakaar Ki Pareshaniyo Se Raahat

Bharat mein laung ka prayog sankdo varsho se masaale evm aushadhee ke roop mein kiyaa jaa raha hai. Ise ek prakratik dard nivarak ke roop mein bhi jaana jaata hai. Aaj hum aapko batayenge isse hone wale kuchh khaas laabhon ke baare mein jinhe jaanne ke baad aap bhi kai praakar ke rogo se aasani se chhutkaara paa sakte hain.

Laung ke kuchh gharelu nuskhe jo aapke swasthya ke liye hain behatreen

  • Sir dard se raahat dilaaye :- Agar aapke sir mein dard hai to laung ke tel ki thodi boondo ko nariyal ke tel mein milaakar sir mein maalish karein. Isse sir dard se raahat milti hai.
  • Pachanshakti ko majboot karein :_ Bhojan mein niymit do laung khaane se hamare shareer ki pachankriya majboot hoti hai tatha pachan sambandhi samasyaon se aajadi milti hai.
  • Daant dard se chhutkara dilaaye :- Daant dard hone par laung ka tel dard wale sthaan par lagaa kar kuchh der lagaa rehne de aur fir thood dein. Isse daant dard se chhutkara milta hai.
  • Gathiya mein hone wali pareshani se aaram dilaaye :- Gathiya ka rog hone par jodon mein hone wale dard evm soojan se raahat dilaane ke liye laung behad laabhkaari hoti hai. Isme adhik matra mein paya jaane wala flavonoids gathia ke dard se raahat dilaane mein khaas bhoomika nibhata hai.
  • Ek achchha anticeptic :- Laung evm iske tel mein anticeptic gun bharpoor matra mein uplabdh hote hain jinki vajah se katne, jalne, chot lagne athva ghaav hone par ya kisi sankraman hone par iska upyog upchaar karne ke liye kiya jata hai.
  • Jukaa evm bukhaar ko theek karne mein upyogi :- Jukaam athva bukhaar hone par 1 litre paani mein 9 se 10 laung ubaal kar paani ko gunguna kar peene se laabh milta hai.
  • Pet mein hone wale keedon se chhutkara dilaaye :- Pet mein keede hone par 3-4 laung ko peeskar 1 chammach shehad ke sath sewan karein. Aisa kuchh dino tak niymit karein. Isse pet ke keedon se chhutkara milta hai.
  • Khaansi ko door bhagaaye :- Laung ka niymit istemaal khaansi se chhutkara dilaata hai sath hi sath shwaas se aane wali badboo ko bhi door bhagaata hai. Ise aap saunf ke sath ya aise hi khaa sakte hain.
  • Twacha sambandhi pareshaniyo ko door karein :- Twacha sambandhi hone wali samasyaaon jaise muhaase, black heads athva white heads ko door karne ke liye laung ka tel ek behtar vikalp hai. Dhyaan rakhein ise keval facepack mein milaakar hi prayog mein laayein kyonki yeh bahut garam hota hai jiski vajah se ise seedhe twacha par lagaana nuksaandayak ho sakta hai.
  • Moonh ke chhalon se raahat :- 2-3 laung ko halka garam karke apne moonh mein rakhne par moonh ke chhalon se aaram milta hai.
  • Shwaas sambandhi rogon mein laabhkaari :- Paani mein 5-6 laung ubaal lein ab isme shehad milaakar kaadha bana lein. Is kaadhe ka niymit prayog shwaas sambandhi kai prakaar ki dikkaton se aaram dilaata hai.
  • Gardan ke dard se raahat dilaaye :- Thodi si laung ko peeskar sarso ke tel mein milaakar naram haatho se maalish karein. Is vidhi ko prayog karne se gardan dard se chhutkara milti hai.

Laung ke sewan se hone waale kuchh anya laabh :-

Laung ka sewan shareer ki pratirodha shakti ko badhata hai. Yeh khoon ko saaf karta ha tatha iska upyog maleria evm haija jaisi bimariyon ko theek karne wali dawaon ko banane mein kiya jaata hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)